top of page
  • लेखक की तस्वीरAndroBoy

गूगल का जेमिनी AI: वनप्लस और ओप्पो फोन के लिए इसका क्या मतलब है

AI तकनीकी परिदृश्य को बदल रहा है, गूगल और एप्पल जैसी कंपनियां जो संभव है उसकी सीमाओं को आगे बढ़ा रही हैं। अब, वनप्लस और ओप्पो गूगल के साथ एक नए सहयोग के साथ आगे बढ़ रहे हैं, जिसका लक्ष्य गूगल की जेमिनी तकनीक द्वारा संचालित AI सुविधाओं को अपने स्मार्टफ़ोन में एकीकृत करना है। इस कदम ने तकनीकी समुदाय में उत्साह पैदा किया है, लेकिन हालिया स्पष्टीकरण से संकेत मिलता है कि मूल घोषणा ने कुछ भ्रम पैदा किया होगा। आइए देखें कि वनप्लस और ओप्पो उपयोगकर्ताओं के लिए इसका क्या मतलब है।


Gemini Ai on oneplus and oppo

वनप्लस ने शुरुआत में घोषणा की थी कि वह गूगल के सबसे शक्तिशाली AI मॉडल, जेमिनी अल्ट्रा को अपने उपकरणों में एकीकृत करेगा। हालाँकि, वनप्लस के एक स्पष्टीकरण से पता चला कि मूल प्रेस विज्ञप्ति में "गलती से जेमिनी अल्ट्रा" का उल्लेख किया गया था। वास्तविक सहयोग में गूगल के "जेमिनी मॉडल्स" शामिल हैं, जिनमें इस बात का कोई विशेष उल्लेख नहीं है कि कौन से वेरिएंट का उपयोग किया जाएगा। इससे वनप्लस और ओप्पो फोन में आने वाली सटीक एआई क्षमताओं के बारे में कुछ अस्पष्टता रह गई है।

गूगल की जेमिनी तकनीक तीन संस्करणों में आती है: जेमिनी नैनो, जेमिनी प्रो और जेमिनी अल्ट्रा। नैनो सबसे छोटा संस्करण है और इसका उपयोग गूगल के पिक्सेल 8 प्रो जैसे उपकरणों में किया जाता है। प्रो गैलेक्सी एस24 श्रृंखला जैसे प्रमुख सैमसंग उपकरणों को शक्ति प्रदान करता है, जबकि अल्ट्रा सबसे शक्तिशाली एआई मॉडल है, जिसका लक्ष्य अधिक मजबूत एआई अनुप्रयोगों पर है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि किस संस्करण का उपयोग किया जाएगा, ध्यान संभवतः उच्च-स्तरीय सुविधाओं और प्रदर्शन पर होगा।


वनप्लस और ओप्पो उपयोगकर्ताओं के लिए इसका क्या मतलब है?

जेमिनी मॉडल का उपयोग किस प्रकार किया जाएगा, इस पर स्पष्टता की कमी के बावजूद, वनप्लस और ओप्पो ने संकेत दिया है कि उनके आगामी उपकरणों में एआई-संचालित कार्यक्षमताएं होंगी। घोषणा से अटकलें लगने लगी हैं कि कौन से फ़ोन इन सुविधाओं का समर्थन करेंगे। संभावित उम्मीदवारों में वनप्लस 12, 12आर, ओप्पो फाइंड एक्स7 अल्ट्रा और आगामी वनप्लस ओपन 2 जैसे फ्लैगशिप और प्रीमियम मॉडल शामिल हैं।

इन उपकरणों में गूगल के जेमिनी AI के एकीकरण का मतलब छवि पहचान, भाषा प्रसंस्करण और अन्य कार्यों के लिए बढ़ी हुई AI क्षमताएं हो सकता है। वनप्लस ने पहले ही एआई-आधारित फोटो इरेज़र टूल पेश किया है, जो उपयोगकर्ताओं को तस्वीरों से अवांछित वस्तुओं को हटाने की अनुमति देता है। गूगल के साथ साझेदारी इन AI-संचालित सुविधाओं का विस्तार कर सकती है, जिसमें समाचार लेखों को सारांशित करना, ऑडियो संसाधित करना और अन्य क्लाउड-आधारित AI फ़ंक्शन जैसे अधिक उन्नत कार्य शामिल हो सकते हैं।


ये सुविधाएँ कब उपलब्ध होंगी?

वनप्लस और ओप्पो की घोषणा में यह निर्दिष्ट नहीं किया गया है कि ये एआई फीचर कब शुरू होंगे या कौन से डिवाइस इन्हें सपोर्ट करेंगे। हालाँकि, समयरेखा बताती है कि ये AI क्षमताएँ "इस वर्ष के अंत में" शुरू हो सकती हैं। एआई प्रगति की गति और स्मार्टफोन निर्माताओं के बीच प्रतिस्पर्धा को देखते हुए, यह सहयोग एंड्रॉइड उपकरणों के लिए एआई एकीकरण के एक नए युग का संकेत दे सकता है।

कुल मिलाकर, जबकि "जेमिनी अल्ट्रा" उल्लेख के संबंध में वनप्लस के स्पष्टीकरण से कुछ अनिश्चितता पैदा हुई है, गूगल के साथ सहयोग वनप्लस और ओप्पो फोन में अधिक उन्नत एआई सुविधाएं लाने की दिशा में एक सकारात्मक कदम है। जैसे-जैसे अधिक विवरण सामने आएंगे, हम इस बात की स्पष्ट तस्वीर की उम्मीद कर सकते हैं कि जेमिनी इन उपकरणों पर उपयोगकर्ता अनुभव को कैसे बढ़ाएगा। तब तक, वनप्लस और ओप्पो उपयोगकर्ता एआई-संचालित सुविधाओं की प्रतीक्षा कर सकते हैं जो उनके स्मार्टफोन का उपयोग करने के तरीके को नया आकार दे सकें।

0 दृश्य0 टिप्पणी

Comments


bottom of page